UA-37077090-1 Holi hindi love story: main use bhool nahin paa raha

HINDI LOVE STORY

Best Collection of Hindi love Story | हिंदी कहानी | Hindi Story | Stories in Hindi | Hindi Love Stories | Love Stories in Hindi




Holi hindi love story: main use bhool nahin paa raha


Holi hindi love story: main use bhool nahin paa raha

(आप इस कहानी को हिंदी फॉन्ट में भी नीचे पढ़ सकते हैं)

Friends, aaj main aap sabko apni sad love story (in hindi) sunane ja raha hun. Ye bat tab ki hai jab main 16 sal ka tha aur main holi ki chhuttiyon mein apne mama ji ke yahan Dehradun gaya hua tha. Mera cousin sanjay meri hi umar ka tha. Vo vahan KV mein padhta tha. Ham donon mein bahut achchhi patati thi jaise ham bhai na hokar dost hon. Na to vo koi bat mujhse chhupata tha na hi main koi bat usse chhupta tha.

holi hindi love storysanjay ne is bar jo mujhe bataya ki uski ek girl friend ban gayi hai to mujhe bahut aashchary hua. Ye mere liye surprise tha. Usne bataya ki uski girl friend richa hai. Main richa ko janta tha. Vah mere mama ji ghar vali colony mein hi rahti thi. Sanjay ne bataya ki vo donon ek hi teacher se math ski tution padh rate the 10th ki. Vahin se vapas ghar aate samay donon ka rasta ek hone ki vajah se sanjay kabhi kabhi use apni bike pe lift de deta tha. Bachpan se jan pahchan ki vajah se na to sanjay ke ghar valon ne kuchh kaha na hi richa ke ghar valon ne. fir dheere dheere un donon kee dosti badhti gayee aur ab to sanjay ko richa se pyaar ho gaya tha.

Sanjay ne kaha ki use lagta hai richa bhi usse pyaar karne lagi hai par un donon ke beech mein ye bat kabhi hui nahin hai. Fir sanjay ne kaha ki vo mujhe richa se milvayega. Main bhi man hi man mein richa ko dekhna chahta tha ki ab vo kaisi dikhati hai.

Lekin aise hi do din nikal gaye aur ham donon ka time idhar udhar ghumne mein nikal gaya. Sanjay is beech tution bhi nahin gaya to meri richa se mulakat bhi nahin ho pai.

Fir holi aa gai. Holi ke din hamne bahut masti ki. Pahle to ghar mein sabke sath holi kheli fir us gali mein jitney bhi ladke ladkiyan the sabne mil ke holi kheli. Sab hamari hi age ke the to bahut masti hui.

Fir sanjay ne kaha main jara richa ke ghar ho ke aata hun. Pahle to maine mana kar diya lekin jab usne kaha chal na, to main bhi chal pada.

Sanjay ko dekh ke richa bahut khush hui. Usne safed kapde pahan rakhe the jo holi khelne ke karan rang birange ho gaye the. Ek dam gore gore aur sundar chehre pe gulaal laga hua tha aur vo bahut hi jyaada khubsurat lag rahi thi. Sanjay aur richa ne ek dusre ko colour lagaya aur fir vo kuchh batein karne lage.

Main to bas richa ko dekhta hi rah gaya. Achanak richa ki aawaaj aayi, aise hi dekhate rahoge ki holi bhi kheloge? Aur ye kah ke usne mere galon pe bahut sara rang aur gulal laga diya. Main fir bhi bas use dekhta hi raha. Sanjay ne kaha ki ye Sharma raha hai. Ye sun ke richa hans padi. Uski hansi bhi badi khubsurat thi.

Fir kuchh der bad ham donon vapas aa gaye. Lekin meri aankhon mein bas richa ka chehra hi ghum raha tha. Fir mera man vahan nahin laga. Har vaqt bas richa ka khayaal aa raha tha.

Lekin maine socha ki sanjay mera bhai aur dost hai. Mujhe man mein richa ka khayaal nahin rakhna chahiye. Par rat bhar richa ka chehra vo gulaabi rang mein rangaa hua meri aankhon ke samne aata raha aur main so nahin paya.

Agle din main kuchh bahana banaa kar mama ke ghar se vaapas aa gaya kyunki mujhe laga ki agar main vahan raha to mere man mein richa hi aati rahegi.

Doston, bas vo din hai aur aaj ka din hai. Maine bahut ladkiyon ko dekha. Ek do se dosti bhi hui. Lekin aajtak koi bhi ladki mujhe richa se achchhi nahin lagi. Mujhe aaj bhi uski yaad aati rahti hai aur kanon mein uski hansi goonjti rahti hai.


Main use bhool nahin pa raha, kya karun?

 Holi hindi love story: मैं उसे भूल नहीं पा रहा

 

फ्रेंड्स, आज मैं आप सबको अपनी लव स्टोरी (इन हिन्दी) सुनाने जा रहा हूँ. ये बात तब की है जब मैं 16 साल का था और मैं होली की छुट्टियों में अपने मामा जी के यहाँ देहरादून गया हुआ था. मेरा कज़िन संजय मेरी ही उमर का था. वो वहाँ केवी में पढ़ता था. हम दोनों में बहुत अच्छी पटती थी जैसे हम भाई ना होकर दोस्त हों. ना तो वो कोई बात मुझसे छुपाता था ना ही मैं कोई बात उससे छुपाता था.

संजय ने इस बार जो मुझे बताया कि उसकी एक गर्ल फ्रेंड बन गयी है तो मुझे बहुत आश्चर्य हुआ. ये मेरे लिए सर्प्राइज़ था. उसने बताया कि उसकी गर्ल फ्रेंड रिचा है. मैं रिचा को जानता था. वह मेरे मामा जी के घर वाली कॉलोनी में ही रहती थी. संजय ने बताया कि वो दोनों एक ही टीचर से मैथ्स की ट्यूशन पढ़ रहे थे दसवीं की. वहीं से वापस घर आते समय दोनों का रास्ता एक होने की वजह से संजय कभी कभी उसे अपनी बाइक पे लिफ्ट दे देता था. बचपन से जान पहचान की वजह से ना तो संजय के घर वालों ने कुछ कहा ना ही रिचा के घर वालों ने. फिर धीरे धीरे उन दोनों की दोस्ती बढ़ती गयी और अब तो संजय को रिचा से प्यार हो गया था.

संजय ने कहा कि उसे लगता है रिचा भी उससे प्यार करने लगी है पर उन दोनों के बीच में ये बात कभी हुई नहीं है. फिर संजय ने कहा कि वो मुझे रिचा से मिलवाएगा. मैं भी मन ही मन रिचा को देखना चाहता था कि अब वो कैसी दिखती है.

लेकिन ऐसे ही दो दिन निकल गये और हम दोनों का टाइम इधर उधर घूमने में निकल गया. संजय इस बीच ट्यूशन भी नहीं गया तो मेरी रिचा से मुलाकात भी नहीं हो पाई.

फिर होली आ गई. होली के दिन हमने बहुत मस्ती की. पहले तो घर में सबके साथ होली खेली फिर उस गली में जितने भी लड़के लड़कियाँ थे सबने मिल के होली खेली. सब हमारी ही एज के थे तो बहुत मस्ती हुई.

फिर संजय ने कहा मैं ज़रा रिचा के घर हो के आता हूँ. पहले तो मैने माना कर दिया लेकिन जब उसने कहा चल ना, तो मैं भी चल पड़ा.
संजय को देख के रिचा बहुत खुश हुई. उसने सफेद कपड़े पहन रखे थे जो होली खेलने के कारण रंग बिरंगे हो गये थे. एक दम गोरे गोरे और सुंदर चेहरे पे गुलाल लगा हुआ था और वो बहुत ही ज़्यादा खूबसूरत लग रही थी. संजय और रिचा ने एक दूसरे को कलर लगाया और फिर वो कुछ बातें करने लगे.

मैं तो बस रिचा को देखता ही रह गया. अचानक रिचा की आवाज़ आई, ऐसे ही देखते रहोगे कि होली भी खेलोगे? और ये कह के उसने मेरे गालो पे बहुत सारा रंग और गुलाल लगा दिया. मैं फिर भी बस उसे देखता ही रहा. संजय ने कहा कि ये शर्मा रहा है. ये सुन के रिचा हंस पड़ी. उसकी हँसी भी बड़ी खूबसूरत थी.

फिर कुछ देर बाद हम दोनों वापस आ गये. लेकिन मेरी आँखों में बस रिचा का चेहरा ही घूम रहा था. फिर मेरा मन वहाँ नहीं लगा. हर वक़्त बस रिचा का ख़याल आ रहा था.

लेकिन मैने सोचा कि संजय मेरा भाई और दोस्त है. मुझे मन में रिचा का ख़याल नहीं रखना चाहिए. पर रात भर रिचा का चेहरा वो गुलाबी रंग में रंगा हुआ मेरी आँखों के सामने आता रहा और मैं सो नहीं पाया.

अगले दिन मैं कुछ बहाना बना कर मामा के घर से वापस आ गया क्यूंकी मुझे लगा की अगर मैं वहाँ रहा तो मेरे मन में रिचा ही आती रहेगी.
दोस्तों, बस वो दिन है और आज का दिन है. मैने बहुत लड़कियों को देखा. एक दो से दोस्ती भी हुई. लेकिन आजतक कोई भी लड़की मुझे रिचा से अच्छी नहीं लगी. मुझे आज भी उसकी याद आती रहती है और कानों में उसकी हँसी गूँजती रहती है.

मैं उसे भूल नहीं पा रहा, क्या करूँ?

hindi love story by Vaibhav

(Visited 3,433 times, 1 visits today)
Updated: June 17, 2013 — 2:42 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

HINDI LOVE STORY © 2014 Frontier Theme