UA-37077090-1 Ek ajeeb see Hindi story मैंने क्या चाहा प्यार या ...

HINDI LOVE STORY

Best Collection of Hindi love Story | हिंदी कहानी | Hindi Story | Stories in Hindi | Hindi Love Stories | Love Stories in Hindi




Ek ajeeb see Hindi story मैंने क्या चाहा प्यार या … Part 2


Ek ajeeb see Hindi story मैंने क्या चाहा प्यार या … ?

frnds, main sapna aaj fir apni story ka second part (Ek ajeeb see Hindi story) le ke aap ke pas haazir hu. Story lambi hai isliye kai part mein likhungi.

Khair, jaisa maine bataya ki babita aksar Rajesh ko dekhti rahti thi. Par kuchh kahti nahin thi. Aur maine ye bhee notice kiya ki raajesh mujhe dekhta rahta tha par mere dekhne par nazrein chura leta tha. Kahta vo bhi kuchh nahin tha.

Lekin ek din preeti, jo hamare sath auto mein school jaya karti thi ne ek din sunil se kaha ki tumse kuchh bat karni hai jara school pahunch ke tum ruk jana to hamne socha ki shayad use kuchh kam hoga. Ab 6-7 sal se ek sath school jate the to koi doubt vali bat to thi hi nahin man mein.

School pahunch ke ham to andar chale gaye par preeti aur sunil vahin ruk gaye. Thodi der baad ham donon ne dekha ki vo donon bhee andar aa gye par preeti to normal thi lekin sunil pareshaan lag raha tha. Hamne kaha kya hua sunil, tension kyun ho rahi hai tumhein to kuchh nahin bola aur bas taal ke rajesh ke sath apni class mein chala gaya. Preeti aur sarita chale gaye apni apni class mein aur main aur babita apni class mein gaye.

Class mein maine dekha ki aaj babita kuchh jyada khush lag rahi thi. Maine socha ki shayad aisi hi kuchh hoga aur kuchh nahin poochha. Fir interval mein hamne sath khana khaya canteen mein to maine aise hi pooch liya ki kya bat hai badi chahak rahi hai kyunki vo bat bat pe khil khil karke hans rahi thi to usne kuchh nahin yar, tu to aise hi meri masti mat le. Maine kaha, masti le rahi hoon kuchh tang to kar nahin rahi meri rani. Fir ham hans pade.

Sham ko maine dekha aur to sab thik the par sunil ki haalat kharaab thi. Badi tension mein lag raha tha. Aur babita itni khush thi ki kisi ko bolne hi nahin de rahi thi. Bakbak kiye ja rahi thi. Aise hi ham sab apne apne ghar taka a gaye. Jab main auto se uteri to maine dekha ki preeti sunil ko kuchh kah rahi thi aur sunil meri aur dekh raha tha. Ekdam aisa chahra ho raha tha uska jaise bas pasina pasina ho raha ho.

Kya hua, yahi sochti main apne ghar chali gai.

Friends, baki story next part mein. मैंने क्या चाहा प्यार या …. Part 3

एक अजीब सी हिन्दी स्टोरी  – मैंने क्या चाहा प्यार या …

फरन्डस, मैं सपना आज फिर अपनी स्टोरी का सेकेंड पार्ट ले के आप के पास हाज़िर हू. स्टोरी लंबी है इसलिए कई पार्ट में लिखूँगी.


खैर, जैसा मैने बताया की बबिता अक्सर राजेश को देखती रहती थी. पर कुछ कहती नहीं थी. और मैने ये भी नोटीस किया की राजेश मुझे देखता रहता था पर मेरे देखने पर नज़रें चुरा लेता था. कहता वो भी कुछ नहीं था.

लेकिन एक दिन प्रीति, जो हमारे साथ ऑटो में स्कूल  करती थी ने एक दिन सुनील से कहा की तुमसे कुछ बात करनी है ज़रा स्कूल पहुँच के तुम रुक जाना तो हमने सोचा की शायद उसे कुछ काम  होगा. अब 6-7 साल से एक साथ स्कूल जाते थे तो कोई डाउट वाली बात तो थी ही नहीं मन में.

स्कूल पहुँच के हम तो अंदर चले गये पर प्रीति और सुनील वहीं रुक गये. थोड़ी देर बाद हम दोनों ने देखा की वो दोनों भी अंदर आ गये पर प्रीति तो नॉर्मल थी लेकिन सुनील परेशान लग रहा था. हमने कहा क्या हुआ सुनील, टेन्षन क्यूँ हो रही है तुम्हें तो कुछ नहीं बोला और बस बात टाल के राजेश के साथ अपनी क्लास में चला गया. प्रीति और सरिता चले गये अपनी अपनी क्लास में और मैं और बबिता अपनी क्लास में गये.

क्लास में मैने देखा की आज बबिता कुछ ज़्यादा खुश लग रही थी. मैने सोचा की शायद ऐसी ही कुछ होगा और कुछ नहीं पूछा. फिर इंटर्वल में हमने साथ खाना खाया कॅंटीन में तो मैने ऐसे ही पूछ लिया की क्या बात है बड़ी चहक रही है क्यूंकी वो बात बात पे खिल खिल करके हंस रही थी तो उसने कहा कुछ नहीं यार, तू तो ऐसे ही मेरी मस्ती मत ले. मैने कहा, मस्ती ले रही हूँ कुछ तंग तो कर नहीं रही मेरी रानी. फिर हम हंस पड़े.

शाम को मैने देखा और तो सब ठीक थे पर सुनील की हालत खराब थी. बड़ी टेन्षन में लग रहा था. और बबिता इतनी खुश थी की किसी को बोलने ही नहीं दे रही थी. बकबक किए जा रही थी. ऐसे ही हम सब अपने अपने घर तका आ गये. जब मैं ऑटो से उतेरी तो मैने देखा की प्रीति सुनील को कुछ कह रही थी और सुनील मेरी और देख रहा था. एकदम ऐसा चहरा हो रहा था उसका जैसे बस पसीना पसीना हो रहा हो.

क्या हुआ, यही सोचती मैं अपने घर चली गई.

फ्रेंड्स, बाकी स्टोरी नेक्स्ट पार्ट में.

Read first part of the story here – मैंने क्या चाहा प्यार या … Part 1

tab tak ke liye bye


(Visited 1,775 times, 1 visits today)
Updated: September 21, 2016 — 11:53 pm

1 Comment

Add a Comment
  1. Hi I am Aryan, aur mujhe ek friend ki jarut hai so agar ap ko hm se frienship karni hai to mere whatshap 9472485967 messge kare
    Aryan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

HINDI LOVE STORY © 2014 Frontier Theme