UA-37077090-1 Mujhe use pyaar hone laga tha मुझे उससे प्यार होने लगा था

HINDI LOVE STORY

Best Collection of Hindi love Story | हिंदी कहानी | Hindi Story | Stories in Hindi | Hindi Love Stories | Love Stories in Hindi




Mujhe use pyaar hone laga tha मुझे उससे प्यार होने लगा था


Mujhe use pyaar hone laga tha

Hello dosto mera naam Rohit hai, main B.C.A final year ka student hun aur is story ke through main aaj apke samne apni ek complicated love story share karne ja raha hun,

इस स्टोरी को हिन्दी में पढ़ने के लिए क्लिक करें

waise to mera ghar Dehradun mein hai lekin apni study ke leye main yahan Delhi mein aaya hun, yaha main Hostel mein rahta hun jo collage ke through hi provide kiya gaya hai, is story ki starting tabse hue jab mene B.C.A mein admission le liya tha aur main wahan new student tha kyunki main bhi wahan freshers mein se ek tha yani mera 1st semester tha.

Collage mein Admission lene ke baad kuch dino tak teachers ne B.C.A, BSC.IT aur BBA ke sabhi students ko ek sath presentation hall main hi treat kiya kyunki abhi sab students new the fir wahan kuch dino mein hi mere kuch friends ban gayee aur 2 friends khaas ban gayee the jo dehradun se hi aaye hue the ek ka naam Anil tha aur doosre ka naam Suraj tha, fir ek din main collage nahin aa paya to evenging mein Anil ne mujhe call kar ke bataya ki Rohit aaj BBA mein 2 new girls aayi hue hai dono bahut beautiful aur cute hai.

fir agle hi din jab main collage aaya to wo new girls abhi collage mein nahin aayi hue thi jinke bare main kal evening mein Anil ne kaha tha. Fir karib 15 min baad 2 ladkiya andar aayi jinme ek ladki mujhe itni attractive lagi ke main bata nahin sakta bas yahi sochne laga ke is ladki se kese baat hogi aur fir baad mein pata chala ki us ladki ka naam Anchal tha. Time bitata gaya aur fir sabhi students ko apni-apni class mil gayee yani BCA ke studens ko alag class, BBA ke students ko alga class jo normally hota hai har collages mein.

Class main mere kafi friends ban gayee the aur kuch ladkio se bhi meri baat hua karti thi rahi baat Anchal ki to wo BBA ki student thi to uski class alag thi isleye usse abhi koi baat nahin ho payi lekin wo aksar hamari class ki girls se bhi baat kiya karti thi jinme se ek ladki se main bhi baat kiya karta tha jiska naam Anita tha.

Anita se meri baat msg mein bhi hua karti thi to ek din mene use Anchal ke bare mein puncha to usne bataya ki wo yahi Delhi ki rahne vali hai aur fir anita masti-masti mein puchne lagi ki kyun tum itna interest kyun le rahe ho to mene baat taal di kisi na kisi bahane fir ek din jab main anita se msg mein baat kar raha tha to mene Anchal ke bare mein aur janne ki kosis ki wo hasne lagi aur bolne lagi ke kya baat hai Rohit kuch jyada hi pasand aa gayee kya tumhe meri friend?

to mene haan bol diya aur use bolne laga ki anita kya tum mere usse baat kara sakti ho? to usne mujhe bola ki main koshish karungi. Fir ek din mujhe jaruri kaam se apne ghar yani Dehradun jana pada to mene Anita ko msg kar diya ki main 3 dino ke leye jaruri kaam se apne ghar ja raha hun tum class teacher ko please bata dena main aa kar application de dunga fir uska 2-3 ghanto tak uska koi msg nahin aaya aur jab main evening mein delhi to dehradun ki bus mein betha to mene dekha ki kisi unknown number se mujhe 2 msg aaye hue the, ek msg mein likha tha “Hello” aur doosra msg “okay Rohit” kar ke tha to mene who are you? Kar ke reply kiya to 5 min baad mujhe ushi number se msg aaya ki main Anchal hun main apke clg se hi BBA kar rahin hu aur apki friend Anita ke phone se msg nahin ho raha tha to usne mujhe apko msg karne ko bol diya aur fir mujhe ye msg pad kar itne khusi hue ki main bata nahin sakta jese mujhe sabkuch mil gaya ho

fir mene turant Anita ko phone kiya aur main kuch bolta, usse pahle usne mujhe bata diya ke ye mene jaan bujh kar kiya taki tumhe mouka mil jaye usse baat karne ka fir mene Anita ko thank you bola aur fir mene kisi na kisi bahane Anchal se baat karni suru kar di fir time bitata gaya aur ham dono ek doosre ke kafi ache friend ban gayee even ham dono raat raat tak ek doosre se msg mein baat kiya karne lage, ham dono itne ache dost ban gayee the ki ek doosre ki care karne lage aur fir mujhe usse pyar hone laga aur kahi na kahi mujhe laga ki ab Anchal bhi mujhe pasand karne lagi hai

fir ek din mene use apne dil ki baat batane ki sochi lekin main himmat nahin juta saka lekin fir ek din mouka milne par mene use apne dil ki baat bata hi de lekin tab pata chala ki anchal mujhse pyar nahin karti hai bas wo mujhe apna ek acha dost samjhti hai aur kuch nahin, ye janne ke baad mujhe bahut bura laga aur fir main raat raat tak jagha rahne laga, mujhe chah kar bhi thik se nind nahin aati thi, ye gum mere andar hi andar itna sama gaya tha ki main kuch aur soch bhi nahin pa raha tha

ek din Anchal ne mujhe msg mein bola ki tum ab badal gayee ho, mujhe ignore karne lage ho aur mujhse thik se bhi baat nahin karte ho to main aur chid gaya aur mene usse bina baat ke jagda kar liya aur fir agle hi din usse maafi mangi, wo mujhe apna sabse acha friend manti thi isleye usne mujhe maaf jaroor kar diya tha lekin ab hamare beech mein thik se baat nahin hua karti thi aur fir time bitate gaya hamare beech mein baat hona bhi band ho gayee. Aaj mera BCA 6th semester chal raha hai yani final year aur aaj bhi hamare beech mein ab baat nahin hoti even collage mein bhi ham ab ek doosre ko ignore karte hai.

mana mujhe usse pyar hone laga tha but aaj tak samajh nahin aaya ki wo pyar tha ya sirf dosti.


मुझे उससे प्यार होने लगा था

हेलो दोस्तो मेरा नाम रोहित है, मैं BBA फाइनल एअर का स्टूडेंट हूँ और इस स्टोरी के थ्रू मैं आज आपके सामने अपनी एक कॉम्प्लिकेटेड लोवे स्टोरी शेयर करने जा रहा हूँ,

वैसे तो मेरा घर देहरादून में है लेकिन अपनी स्टडी के लिए मैं यहाँ देल्ही में आया हूँ, यहाँ  मैं हॉस्टिल में रहता हूँ जो कॉलेज  के थ्रू ही प्रवाइड किया गया है, इस स्टोरी की स्टार्टिंग तबसे हुए जब मैने  BBA में अड्मिशन ले लिया था और मैं वहाँ न्यू स्टूडेंट था क्यूंकी मैं भी वहाँ फ्रेशर्ज़ में से एक था यानी मेरा 1स्ट्रीट सेमेस्टर था.

कॉलेज  में अड्मिशन लेने के बाद कुछ दिनों तक टीचर्स ने BCA, BSc और BBA के सभी स्टूडेंट्स को एक साथ प्रेज़ेंटेशन हॉल मैं ही ट्रीट किया क्यूं कि अभी सब स्टूडेंट्स न्यू थे फिर वहाँ कुछ दिनों में ही मेरे कुछ फ्रेंड्स बन गये  और 2 फ्रेंड्स ख़ास बन गये  थे जो देहरादून से ही आए हुए थे एक का नाम अनिल था और दूसरे का नाम सूरज था, फिर एक दिन मैं कॉलेज  नहीं आ पाया तो ईव्निंग  में अनिल ने मुझे कॉल कर के बताया कि रोहित आज BBA में 2 न्यू गर्ल्स आई हुई  है दोनो बहुत ब्यूटिफुल और क्यूट है.

फिर अगले ही दिन जब मैं कॉलेज  आया तो वो न्यू गर्ल्स अभी कॉलेज  में नहीं आई हुए थी जिनके बारे मैं कल ईव्निंग में अनिल ने कहा था. फिर करीब 15 मिनट  बाद 2 लड़किया अंदर आई जिनमे एक लड़की मुझे इतनी अट्रॅक्टिव लगी कि मैं बता नहीं सकता बस यही सोचने लगा के इस लड़की से कैसे  बात होगी और फिर बाद में पता चला कि उस लड़की का नाम आँचल था. टाइम बीतता गया और फिर सभी स्टूडेंट्स को अपनी-अपनी क्लास मिल गयी यानी BSc के स्टूडेंस को अलग क्लास, BBA के स्टूडेंट्स को अलग  क्लास जो नॉर्मली होता है हर कॉलेज  में.

क्लास मैं मेरे काफ़ी फ्रेंड्स बन गये  थे और कुछ लड़कियों  से भी मेरी बात हुआ करती थी रही बात आँचल की तो वो BBA की स्टूडेंट थी तो उसकी क्लास अलग थी इसले उससे अभी कोई बात नहीं हो पाई लेकिन वो अक्सर हमारी क्लास की गर्ल्स से भी बात किया करती थी जिनमे से एक लड़की से मैं भी बात किया करता था जिसका नाम अनिता था.

अनिता से मेरी बात एस एम एस में भी हुआ करती थी तो एक दिन मैने  उसे आँचल के बारे में पुंचा तो उसने बताया किवो यही देल्ही की रहने वाली है और फिर अनिता मस्ती-मस्ती में पूछने लगी की क्यूँ तुम इतना इंटेरेस्ट क्यूँ ले रहे हो तो मैने  बात ताल दी किसी ना किसी बहाने फिर एक दिन जब मैं अनिता से मसेज में बात कर रहा था तो मैने  आँचल के बारे में और जानने की कोसिस की वो हँसने लगी और बोलने लगी किक्या बात है रोहित कुछ ज़्यादा ही पसंद आ गयी क्या तुम्हे मेरी फ्रेंड?

तो मैने  yes  बोल दिया और उसे बोलने लगा किअनिता क्या तुम मेरे उससे बात करा सकती हो? तो उसने मुझे बोला कि मैं कोशिश करूँगी. फिर एक दिन मुझे ज़रूरी काम से अपने घर यानी देहरादून जाना पड़ा तो मैने  अनिता को मसेज  कर दिया की मैं 3 दिनों के लिए ज़रूरी काम से अपने घर जा रहा हूँ तुम क्लास टीचर को प्लीज़ बता देना मैं आ कर अप्लिकेशन दे दूँगा फिर उसका 2-3 घंटो तक उसका कोई मसेज नहीं आया और जब मैं ईव्निंग में देल्ही तो देहरादून की बस में बेता तो मैने  देखा कि किसी अंजान नंबर से मुझे 2 मसेज  आए हुए थे, एक मसेज  में लिखा था “हेलो” और दूसरा मसेज  “ओके रोहित” कर के था तो मैने  how are you ? कर के रिप्लाइ किया तो 5 मिनट  बाद मुझे उसी  नंबर से मसेज  आया किमैं आँचल हूँ मैं आपके कॉलेज  से ही BBA कर रहीं हू और आपकी फ्रेंड अनिता के फोन से मसेज  नहीं हो रहा था तो उसने मुझे आपको मसेज  करने को बोल दिया और फिर मुझे ये मसेज  पद कर इतनी  खुशी हुई  किमैं बता नहीं सकता जैसे  मुझे सबकुछ मिल गया हो

फिर मैने  तुरंत अनिता को फोन किया और मैं कुछ बोलता, उससे पहले उसने मुझे बता दिया के ये मैने  जान बुझ कर किया ताकि तुम्हे मौका मिल जाए उससे बात करने का फिर मैने  अनिता को थैंक यू बोला और फिर मैने  किसी ना किसी बहाने आँचल से बात करनी शुरू  कर दी फिर टाइम बीतता गया और हम दोनो एक दूसरे के काफ़ी अच्छे फ्रेंड बन गयी ईवन हम दोनो रात रात तक एक दूसरे से मसेज  में बात किया करने लगे, हम दोनो इतने अच्छे  दोस्त बन गयी थे कि एक दूसरे की केयर  करने लगे और फिर मुझे उससे प्यार होने लगा और कही ना कही मुझे लगा किअब आँचल भी मुझे पसंद करने लगी है

फिर एक दिन मैने  उसे अपने दिल की बात बताने की सोची लेकिन मैं हिम्मत नहीं जुटा सका लेकिन फिर एक दिन मौका मिलने पर मैने  उसे अपने दिल की बात बता ही दे लेकिन तब पता चला कि आँचल मुझसे प्यार नहीं करती है बस वो मुझे अपना एक अच्छा दोस्त समझती है और कुछ नहीं, ये जानने के बाद मुझे बहुत बुरा लगा और फिर मैं रात रात तक जागा रहने लगा, मुझे चाह कर भी ठीक से नींद नहीं आती थी, ये गम  मेरे अंदर ही अंदर इतना समा गया था किमैं कुछ और सोच भी नहीं पा रहा था

एक दिन आँचल ने मुझे मसेज  में बोला कितुम अब बदल गये  हो, मुझे इग्नोर करने लगे हो और मुझसे ठीक से भी बात नहीं करते हो तो मैं और छिड़ गया और मैने  उससे बिना बात के झगड़ा कर लिया और फिर अगले ही दिन उससे माफी माँगी, वो मुझे अपना सबसे अच्छा फ्रेंड मानती थी इसलिए उसने मुझे माफ़ ज़रूर कर दिया था लेकिन अब हमारे बीच में ठीक से बात नहीं हुआ करती थी और फिर टाइम बीतते गया हमारे बीच में बात होना भी बंद हो गयी. आज मेरा BBA का 6 सेमेस्टर चल रहा है यानी फाइनल एअर और आज भी हमारे बीच में अब बात नहीं होती ईवन कॉलेज  में भी हम अब एक दूसरे को इग्नोर करते है.

माना मुझे उससे प्यार होने लगा था लेकिन आज तक समझ नहीं आया की वो प्यार था या सिर्फ़ दोस्ती.


(Visited 4,214 times, 1 visits today)
Updated: September 21, 2016 — 11:52 pm
HINDI LOVE STORY © 2014 Frontier Theme